बोल्ड होने के बाद भी अंपायर ने मैक्सवेल को नहीं दिया आउट, आकाश चोपड़ा ने उठाई यह मांग

punjabkesari.in Friday, May 20, 2022 - 05:55 PM (IST)

मुंबई : पूर्व भारतीय बल्लेबाज और कमेंटेटर आकाश चोपड़ा का मानना है कि अगर विकेट पर रखी एलईडी बेल्स जल जाती हैं और गिरती नहीं है तब भी बल्लेबाज़ को आउट देना चाहिए। यह बात उन्होंने उस वाकये के बाद कही जब गुरूवार को वानखेड़े में गुजरात टाइटंस बनाम रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु मुक़ाबले में बल्लेबाजी करने आए ग्लेन मैक्सवेल, राशिद ख़ान की पहली ही गेंद पर पूरी तरह से बीट हुए और गेंद स्टंप्स से टकराते हुए बाउंड्री पर चली गई लेकिन बेल्स गिरी ही नहीं।

चोपड़ा ने कहा कि बत्ती जल गई तो बल्लेबाज की बत्ती गुल हो जानी चाहिए इसमें कोई शक नहीं है। ये एलईडी बेल्स हैं, जो बहुत भारी होती हैं। जब लकड़ी की बेल्स आई थीं तो इसलिए आई थीं कि अगर गेंद हल्की सी भी स्टंप्स पर लगे तो यह गिर जाती थीं। कई बार तो यह हवा अधिक चलने पर ही गिर जाती थीं, तब इनको गीला करके रखा जाता था। आज कल बेल्स हल्का सा थपकी भी लगाओ तो गिरती नहीं हैं क्योंकि ये बहुत भारी होती हैं। मेरा तो यही मानना है कि लाइट जलती है तो आउट देना चाहिए। इस नियम में बदलाव की ज़रूरत है।

PunjabKesari

चोपड़ा ने इस मामले में कहा कि यह दुर्भायपूर्ण है कि हम सब लकीर के फकीर बन जाते हैं। अब अगर आपके पास वह सबूत नहीं है और थर्ड अंपायर के भी हाथ बंधे हैं तो यह प्रोटोकॉल है कि अंपायर को आउट देना होगा। हालांकि मेरा मानना है कि तब सामान्य बुद्धि के साथ जाना चाहिए। थोड़ा सा नियमों में लचीलापन होना जरूरी है। ग़लती कोई जानबूझकर नहीं करेगा। लेकिन सामान्य बुद्धि का प्रयोग होना चाहिए। 

PunjabKesari

इस मैच में ऐसा ही एक वाकया पहली पारी में अल्ट्रा ऐज को लेकर भी हुआ। मैक्सवेल की गेंद पर मैथ्यू वेड को अंपायर ने एलबीडब्ल्यू दे दिया। वेड ने तुरंत डीआरएस ले लिया क्योंकि वह जानते थे कि गेंद उनके बल्ले या ग्लव्स से लगकर पैड पर लगी है, लेकिन अल्ट्रा एज में दिखा कि गेंद कहीं भी बल्ले या ग्लव्स से नहीं लगी है। थर्ड अंपायर ने भी उन्हें आउट दिया और वेड बेहद निराश दिखे। पवेलियन पहुंचकर उन्होंने अपना हेलमेट दीवार पर देकर मारा और बल्ला भी फेंक दिया। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Raj chaurasiya

Related News

Recommended News