संन्यास के बाद बोले हरभजन सिंह- इस चीज हमेशा रहेगा मलाल

punjabkesari.in Saturday, Dec 25, 2021 - 11:43 AM (IST)

नई दिल्ली : भारतीय क्रिकेट के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजों में शुमार हरभजन सिंह को 2015-16 में लगातार अच्छे प्रदर्शन के बाद भी राष्ट्रीय टीम में जगह नहीं मिलने का थोड़ा मलाल है लेकिन उन्हें अपने 23 साल के क्रिकेट करियर को लेकर कोई पछतावा नहीं है। शुक्रवार को क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास की घोषणा करने वाले हरभजन ने साक्षात्कार कहा कि उनके संन्यास की घोषणा का समय बेहतर हो सकता था लेकिन उन्होंने अपने क्रिकेट करियर में खोने से बहुत अधिक पाया है।

संन्यास के समय के बारे में हरभजन ने कहा कि मुझे यह स्वीकार करना होगा कि समय सही नहीं है। मैंने काफी देर कर दी। आम तौर पर, मैं अपने पूरे जीवन में समय का पाबंद रहा हूं। शायद यही एक चीज है जिसमें मैंने देरी कर दी। बात बस इतनी सी है कि खेल के दौरान मैं ‘टाइमिंग (समय)' से चूक गया। हरभजन को इस बात का मलाल है कि 2015-16 में जब वह शानदार लय में थे तब उन्हें राष्ट्रीय टीम में जगह नहीं मिली लेकिन उन्हें किसी चीज पर पछतावा नहीं है। 

हरभजन ने कहा कि किसी भी चीज को देखने के दो नजरिए होते है। अगर मैं जालंधर के एक छोटे से शहर के लड़के के रूप में खुद को देखूं तो जहां से मैंने शुरू किया था और मुझे जो सफलता मिली उसके बारे में बिल्कुल भी पता नहीं था। मैं केवल भगवान का शुक्रिया कर सकता हूं। मैं क्रिकेट के लिए काफी आभारी हूं। अगर दूसरे तरीके से देखूं तो यह ‘यू होता तो क्या होता वाली बात होगी'। 

हरभजन ने आगे कहा कि पांच साल पहले जो हुआ उसे लेकर पछतावा करने का अब कोई मतलब नहीं है। हां, मैं क्रिकेट के मैदान से संन्यास ले सकता था, मैं शायद कुछ समय पहले खेल को अलविदा कह सकता था। लेकिन मुझे कोई पछतावा नहीं क्योंकि जब पीछे मुड़कर देखता हूं तो मुझे जो मिला है, वह उससे कहीं अधिक है जो मैंने नहीं किया। अगर मैं यह देखूं कि मैंने कहां से शुरू किया है तो मन खराब करने की जरूरत नहीं है।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Raj chaurasiya

Related News

Recommended News