अकेले क्रिकेट ही नहीं ज्यादातर भारतीय खेलों में लगा है चीनी पैसा, देखें रिपोर्ट्

6/27/2020 2:41:08 PM

जालन्धर : भारत-चीन विवाद के बाद चीनी कंपनी वीवो से आई.पी.एल. की टाइटल स्पांसरशिप वापस लेने की बात उठ रही है। अगर ऐसा हुआ तो आई.पी.एल. के अलावा भारत के अन्य खेल भी मुश्किल में पड़ जाएंगे। दरअसल, भारत के कई खेलों में चीनी कंपनियों का पैसा लगा है। सबसे ज्यादा मुश्किल बी.सी.सी.आई. को पेश आएगी।

Report : Not only cricket, Chinese money is invested in most Indian sports

भारतीय क्रिकेट की स्पांसरशिप में बड़ी हिस्सेदारी चीनी कंपनियों की है। वीवो ने आई.पी.एल. की टाइटल स्पांसरशिप के लिए बी.सी.सी.आई. से 5 साल के 2199 करोड़ रुपए की डील की है। कॉन्ट्रेक्ट अनुसार वीवो हर साल 440 करोड़ रुपए बी.सी.सी.आई. को देता है। इसके बाद 2 अन्य इनवैस्टर्स पे.टी.एम. और ड्रीम-11 हैं। पे.टी.एम. भारत के इंटरनैशनल और घरेलू क्रिकेट मैचों की स्पांसर है। इसमें चीनी कंपनी अली बाबा ने 600 मिलियन डॉलर लगाए हैं।

Report : Not only cricket, Chinese money is invested in most Indian sports

वहीं, ड्रीम-11 में चीनी कंपनी टेनसैंट ने 100 मिलियन डॉलर का निवेश किया है। ड्रीम-11 आई.पी.एल. का भी ऑफिशियल पार्टनर हैं। अगर आई.पी.एल. से 3 बड़े स्पांसरशिप अलग हो गए तो यह बी.सी.सी.आई. के लिए तगड़ा झटका होगा। तगड़ा इसलिए क्योंकि कोविड-19 के कारण जो विश्व बाजार में मंदी फैली है, उसके कारण नया स्पांसर ढूंढना मुश्किल हो जाएगा।

Report : Not only cricket, Chinese money is invested in most Indian sports

चीन बैडमिंटन, टैनिस और फिटनेस उपकरणों की मार्केट पर भी कब्जा जमा चुका है। चीन पहले फुटबॉल और बास्केटबॉल का रॉ मैटेरियल देता था। अब यह प्रोडक्ट फीनिशिंग के साथ आ रहे हैं।

तो फिर ओलिम्पिक की स्पांसरशिप भी जाएगी

Report : Not only cricket, Chinese money is invested in most Indian sports

अकेला आई.पी.एल. प्रबंधन ही नहीं जिमनास्ट ली निंग भी इस बायकॉट से तगड़ा झटका खा सकते हैं। ओलिम्पिक में 3 गोल्ड समेत 6 पदक पाने वाले ली निंग उसी ली ङ्क्षनग कंपनी के मालिक है जोकि इंडियन ओलिम्पिक एसोसिएशन से भारतीय प्लेयरों को स्पॉन्सर करने की डील कर चुकी है। ली निंग चर्चा में तब आए थे जब उन्होंने बैडमिंटन प्लेयर पी.वी. सिंधु के साथ रिकॉर्ड 48 करोड़ में करार किया था। भारतीय बैडमिंटन इतिहास में यह अब तक की सबसे बड़ी डील है। अब भारत-चीन गलवान विवाद के बाद ली निंग के साथ डील टूटने का खतरा बढ़ गया है। इससे ली निंग का कम बल्कि इंडियन ओलिम्पिक एसोसिएशन को ज्यादा नुकसान होगा।
आई.ओ.ए. जनरल सैक्रेटरी राजीव मेहता ने कहा- टेनसैंट ने सबसे ज्यादा बोली लगाकर स्पॉन्सरशिप ली थी। हमें सरकार की तरफ से इस करार को रद्द करने की कोई सूचना नहीं आई है। अगर ऐसी नौबत आई तो इससे भारतीय खेल सबसे ज्यादा प्रभावित होंगे। 

चीनी प्रोडक्ट्स पर बैन को कई साल लगेंगे

Report : Not only cricket, Chinese money is invested in most Indian sports

पिछले 5 साल में चाइनीज कंपनियों में भारत की स्पोटर््स मार्केट पर 80 फीसदी कब्जा कर लिया है। मिनिस्ट्री ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के आंकड़े देखें तो पता चलता है कि भारत-चीन में 2018-19 में करीब 107 लाख करोड़ का व्यापार हुआ। जे.एम.एस. स्पोटर््स के विकास महाजन बताते हैं- अगर चाइनीज प्रोडक्ट पर बैन लगाना है तो इसके लिए भी कई साल लग जाएंगे। सबसे पहले भारत को अपना इंफ्रास्ट्रक्चर खड़ा करना होगा जोकि कम कीमत में ज्यादा और क्वलिटी वाला प्रोडक्शन कर सके। 

फिटनेस उपकरण बनाने में चीन पहले नंबर पर

फिटनेस उपकरणों के मामले में चीन की मार्केट सबसे मजबूत है। इंटरनैशनल जिम्रास्टिक फैडरेशन के माणकों के अनुसार चीनी कंपनी तैशन सबसे सस्ते फिटनैस उपकरण मुहैया करवा देती है। उदाहरण के लिए अगर जिम्रास्टिक के एक सैट के लिए जर्मन और फ्रांस की कंपनियां दो करोड़ रुपए लेती हैं तो चीन की यह कंपनी एक करोड़ में ही सबकुछ तैयार कर दे देती है।

‘बायजू’ में लगा है चीनी इनवेस्टर्स का पैसा

Report : Not only cricket, Chinese money is invested in most Indian sports

टीम इंडिया की अभी स्पांसरशिप भारतीय लॄनग एप ‘बायजू’ के पास है। बायजू की शुरुआत केरला में जन्मे बायजू रवेंद्रन ने की थी। ‘बायजू’ में चीनी कंपनी ‘टेनसैंट’ का पैसा लगा हुआ है। ‘टेनसैंट’ ने 2017 में 40 मिलियन डॉलर ‘बायजू’ में इन्वैस्ट किया था। इसके बाद मार्च 2019 में फिर से पैसे लगाए। अब सवाल उठता है कि चीनी कंपनियों का बहिष्कार करने से बायजू जैसे कंपनियां टिक पाएंगी या नहीं। भले ही बायजू को कोई अन्य इंडियन स्पांसर मिल जाए लेकिन वह उन्हें इतना पैसा नहीं दे पाएगा जितना चीनी कंपनी दे रही है।

प्रो-कबड्डी को भी किया है स्पांसर

Report : Not only cricket, Chinese money is invested in most Indian sports

भारत के कई खेल ऐसे हैं जिसे उभारने का श्रेय चीनी इन्वैस्टर्स को जाता है। इनमें से एक खेल प्रो-कबड्डी भी हैं। वीवो ने प्रो कबड्डी के 5 साल के स्पांसरशिप राइट्स के लिए 300 करोड़ की रकम चुकाई है।


Jasmeet

Related News