एएफसी एशियाई कप : दबदबे के बावजूद भारत ने मौके गंवाए, ईरान से खेला गोलरहित ड्रा

punjabkesari.in Friday, Jan 21, 2022 - 12:20 PM (IST)

नवी मुंबई : भारतीय महिला फुटबॉल टीम ने गुरूवार को यहां एएफसी एशियाई कप के अपने शुरूआती मुकाबले में ईरान के खिलाफ पूरी तरह से दबदबा बनाने के बावजूद गोल करने के कई मौके गंवा दिये जिससे उसे गोलरहित ड्रा से संतोष करना पड़ा। 

मुख्य कोच थॉमस डेनेरबी मैच के नतीज से निराश होंगे क्योंकि निचली रैंकिंग की ईरानी टीम के खिलाफ जीत उनकी टीम को क्वार्टरफाइनल के लिये क्वालीफाई करने की मुहिम में सहज स्थिति में पहुंचा देती। लेकिन वह कम से कम इस चीज से खुश होंगे कि उनकी खिलाड़ियों ने डीवाई पाटिल स्टेडियम में ‘फुटबॉल को कब्जे में रखने और एक दूसरे को पास देने में' शानदार खेल दिखाया, विशेषकर दूसरे हाफ में। 

वह अब उम्मीद करेंगे कि उनकी टीम इस खेल को जारी रखते हुए रविवार को चीनी ताइपे के खिलाफ होने वाले मैच में गोल करे जिसे दिन के शुरूआती मैच में चीन से 0-4 से हार का सामना करना पड़ा ताकि उनकी क्वार्टरफाइनल की उम्मीदें जीवंत रहें। भारतीयों ने उम्मीद की होगी कि ईरान की टीम रक्षात्मक रवैया अपनायेगी लेकिन शुरूआती मिनट में यह बिलकुल ही उलट दिखायी दिया। 

भारतीय टीम रैंकिंग में 55वें स्थान पर जबकि ईरान 70वीं रैंकिंग पर काबिज है। शुरूआती मिनट में ईरान की टीम बेहतर दिख रही थी जिसमें उसे गोल करने के दो मौके भी मिले जिसमें एक क्रासबार पर हिट भी किया। लेकिन घरेलू टीम ने फिर ग्रुप ए के इस मैच के पहले हाफ के बीच में पूरी तरह नियंत्रण बना लिया और अंत तक अपना दबदबा कायम रखा। ईरान की कप्तान बेहनाज ताहेरखानी ने 12वें मिनट में सामानेह चाहकांदी की फ्री किक पर हेडर लगाया जो भारतीय गोलकीपर अदिति चौहान को पछाड़ते हुए क्रासबार से टकरा गया। हालांकि भारतीय कप्तान आशालता देवी ‘डीप डिफेंस' में मजबूत थीं लेकिन ईरान ने 19वें मिनट में लगभग बढ़त बना ही ली थी जब भारतीय डिफेंडर का हेडर पीछे जाकर नेगिन जांडी के सामने गिरा जो दबाव के कारण वाइड शॉट लगा बैठीं। 

शुरूआती दबाव से निपटने के बाद भारतीय टीम सहज हुई और फिर उसने दबदबा बनाना शुरू किया। इंदुमति हालांकि 24वें मिनट में अपनी वॉली नीचे नहीं रख सकी जबकि छह मिनट बाद मनीषा कल्याण का हेडर क्रासबार के ऊपर से चला गया। लेकिन भारत का सर्वश्रेष्ठ मौका 32वें मिनट में आया। प्यारी खाका का शॉट इंदुमति के करीब गिरा लेकिन उनका शॉट बार के ऊपर से चला गया। भारत ने दूसरे हाफ में एक दूसरे को पास देने का शानदार खेल दिखाया और वे ईरानी टीम पर पूरी तरह दबदबा बनाये थे जिससे विपक्षी टीम के पास बचाव करने के अलावा कोई चारा नहीं था। लेकिन डेनेरबी की टीम दुर्भाग्यशाली रही कि वह कोई भी गोल करके मैच नहीं जीत सकी। 

ईरान की गोलकीपर जोहरेह कोदाई ने लगातार कई बचाव किये और भारत को तीन अंक जुटाने से रोक दिया। भारतीय टीम गोल करने की कोशिश में जुटी थी लेकिन ईरान ने उनके लगातार हमलों का डटकर सामना किया। भारतीय टीम ईरान के बॉक्स के अंदर सभी तरह से - क्रास, शॉट्स, हेडर - हमले कर रही थी लेकिन घरेलू टीम फिर भी गोल नहीं कर सकी। मनीषा कल्याण ने 51वें मिनट में एक शानदार नीचा क्रास शॉट प्यारी खाका के पास भेजा लेकिन वह इसे वाइड कर बैठीं। एक मिनट बाद खाका फिर से संध्या रंगनाथन के पास पर चूक गयी जिसका ईरानी खिलाड़ी ने अच्छा बचाव कया। 

एक घंटे के खेल के बाद इंदुमति का शाट नेट के साइड में लगा। संध्या की जगह उतरीं डांगमेई ग्रेस ने भारतीय हमलों की रफ्तार तेज कर दी। भारत को फिर सबसे अच्छा मौका 76वें मिनट में मिला जब डांगमेई ग्रेस ने गोल के सामने हेडर शॉट लगाया लेकिन ईरान की गोलकीपर ने किसी तरह से इसका बचाव कर लिया। भारत ने स्वीटी देवी और लिंथोइंगाम्बी देवी (गोलकीपर) को दिन की अपनी 23 सदस्यीय टीम में शामिल नहीं किया था। साथ ही पंथोई देवी को अतिरिक्त गोलकीपर के रूप में जोड़ा गया। दो खिलाड़ी बुधवार को कोविड-19 जांच में पॉजिटिव आई थीं। 
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Sanjeev

Related News

Recommended News