CWG 2022 : भारतीय मुक्केबाज निकहत, पंघाल और नीतू ने पहली बार जीता गोल्ड मेडल

punjabkesari.in Sunday, Aug 07, 2022 - 10:13 PM (IST)

बर्मिंघम : मौजूदा विश्व चैम्पियन निकहत जरीन सहित भारतीय स्टार मुक्केबाज अमित पंघाल और नीतू गंघास ने रविवार को यहां राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक अपने नाम किए। भारतीय मुक्केबाज इस तरह बर्मिंघम से सात पदक लेकर लौटेंगे जो पिछले चरण से दो पदक कम होंगे। हालांकि अभी सागर अहलावत के रात को होने वाले मुकाबले से सातवें पदक का रंग तय होगा।

Indian boxers, Nikhat Zareen, Amit Panghal, Neetu, First Gold medal, Commonwealth Games, भारतीय मुक्केबाज, निकहत जरीन, अमित पंघाल, नीतू, पहला स्वर्ण पदक, राष्ट्रमंडल खेल

पिछले साल राष्ट्रीय प्रतियोगिता से शानदार फॉर्म में चल रही 26 साल की निकहत ने लाइट फ्लाईवेट (48-50 किग्रा) स्पर्धा में उत्तरी आयरलैंड की कार्ले मैकनॉल पर एकतरफा फाइनल में 5-0 से जीत दर्ज कर अपने पहले राष्ट्रमंडल खेल में पहला स्थान हासिल किया। पंघाल ने पिछले राष्ट्रमंडल खेलों के फाइनल में मिली हार का बदला चुकता करते हुए पुरूष फ्लाईवेट वर्ग में जबकि नीतू गंघास ने पदार्पण में ही दबदबा बनाते हुए स्वर्ण पदक अपनी झोली में डाले।

Indian boxers, Nikhat Zareen, Amit Panghal, Neetu, First Gold medal, Commonwealth Games, भारतीय मुक्केबाज, निकहत जरीन, अमित पंघाल, नीतू, पहला स्वर्ण पदक, राष्ट्रमंडल खेल

पंघाल (48-51 किग्रा) को 4 साल पहले गोल्ड कोस्ट में इंग्लैंड के ही एक प्रतिद्वंद्वी से इसी चरण में हार मिली थी लेकिन इस बार 26 साल के मुक्केबाज ने अपनी आक्रामकता के बूते घरेलू प्रबल दावेदार मैकडोनल्ड कियारान को 5-0 से हराकर स्वर्ण पदक जीता।


पंघाल ने टोक्यो ओलिम्पियन चैम्पियन पैट्रिक चिनयेम्बा के खिलाफ वापसी करते हुए जीत दर्ज की थी। उन्होंने कहा- यह सबसे कठिन मुकाबला रहा और ‘टर्निंग प्वाइंट’ भी। मैंने पहला राउंड गंवा दिया था लेकिन अपना सबकुछ लगाकर वापसी कर जीत हासिल की। ब्रिटिश प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ रणनीति के बारे में उन्होंने कहा- वह मुझसे काफी लंबा था और मुझे काफी आक्रामक होना पड़ा ताकि मुक्का मारने के लिये उसकी हाथों के अंदर जा सकूं। यह रणनीति कारगर रही। 

Indian boxers, Nikhat Zareen, Amit Panghal, Neetu, First Gold medal, Commonwealth Games, भारतीय मुक्केबाज, निकहत जरीन, अमित पंघाल, नीतू, पहला स्वर्ण पदक, राष्ट्रमंडल खेल
राष्ट्रमंडल खेलों में पदार्पण में ही नीतू ने गजब का आत्मविश्वास दिखाया। नीतू अपनी प्रतिद्वंद्वी से थोड़ी लंबी थीं जिसका उन्हें फायदा मिला, उन्होंने विपक्षी के मुक्कों से बचने के लिये पैरों का अच्छा इस्तेमाल किया। नीतू ने तेज तर्रार, ‘लंबी रेंज’ के सटीक मुक्कों से प्रतिद्वंद्वी को चारों खाने चित्त कर दिया। उन्होंने कहा- मैं बहुत खुश हूं। मुझे सांस भी नहीं आ रहा। उनके पिता हरियाणा विधानसभा में कर्मचारी हैं। भारत के मुक्केबाजी में ‘मिनी क्यूबा’ कहलाए जाने वाले भिवानी की नीतू ने कहा- मेरे माता-पिता मेरी प्रेरणा रहे हैं और मेरा स्वर्ण पदक उनके लिए है। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jasmeet

Related News

Recommended News