IPL 2022: इन युवाओं खिलाड़ियों ने दिखाई प्रतिभा, बन सकते हैं टीम इंडिया के स्टार

punjabkesari.in Tuesday, May 31, 2022 - 01:15 PM (IST)

स्पोर्ट्स डेस्क : इंडियन प्रीमियर लीग का आदर्श वाक्य है ‘यहां प्रतिभा को मौका मिलता है’ और 2022 सत्र इस पर खरा उतरा जहां कुछ शानदार तेज गेंदबाज उभरकर सामने आए तो हार्दिक पंड्या भारत के संभावित कप्तान के रूप में दावा पेश किया।

हैदराबाद के लिए पहली बार पूर्ण सत्र में खेलते हुए उमरान मलिक ने लगातार 150 किमी प्रतिघंटा से अधिक की रफ्तार से गेंदबाजी करने की अपनी क्षमता के कारण दुनिया का ध्यान खींचा। भारतीय चयनकर्ता भी उनसे प्रभावित दिखे जबकि बाएं हाथ के युवा तेज गेंदबाज मोहसिन खान ने नई फ्रेंचाइजी लखनऊ सुपर जाइंट्स की ओर से गति और सटीक गेंदबाजी का शानदार नजारा पेश करते हुए प्रभावित किया।

इसके अलावा चेन्नई सुपरकिंग्स के मुकेश चौधरी और सिमरजीत सिंह, गुजरात टाइटंस के यश दयाल और राजस्थान रॉयल्स के कुलदीप सेन भी दुनिया की सबसे बड़ी टी20 लीग में छाप छोड़ने वाले भारतीय तेज गेंदबाजों में शामिल रहे। कुछ युवा बल्लेबाजों ने भी दिखाया कि वे शीर्ष स्तर पर खेलने में सक्षम हैं। इनमें मुंबई इंडियंस के तिलक वर्मा भी शामिल रहे जिनकी सराहना उनके कप्तान रोहित शर्मा ने भी की। रोहित ने बाएं हाथ के इस बल्लेबाज को भारतीय टीम में खेलने का दावेदार बताया।

पंजाब किंग्स के विकेटकीपर बल्लेबाज जितेश शर्मा से भारत के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग काफी प्रभावित दिखे। उनकी टीम प्ले आफ में जगह बनाने में नाकाम रही लेकिन उन्होंने मौकों का पूरा फायदा उठाया। आईपीएल में पहले भी खेल चुके ‘अनकैप्ड’ (जिन्होंने कोई अंतरराष्ट्रीय मुकाबला नहीं खेला हो) खिलाड़ियों में राहुल त्रिपाठी और अभिषेक वर्मा ने प्रभावित किया। त्रिपाठी हालांकि भारतीय टीम में जगह बनाने से चूक गए।

इस सत्र से हार्दिक पंड्या ने भारत के भविष्य के कप्तान के तौर पर अपनी दावेदारी पेश कर दी है। सत्र के शुरू होने से पहले हार्दिक की फिटनेस पर संदेह था लेकिन उन्होंने गेंद और बल्ले से शानदार प्रदर्शन करने के साथ अपनी नेतृत्व क्षमता का लोहा मनावाकर आलोचकों का मुंह बंद किया। उन्होंने चौथे क्रम पर बल्लेबाजी करते हुए टीम की जरूरत के मुताबिक रक्षात्मक और आक्रामक खेल का शानदार सामंजस्य दिखाया।

आईपीएल ने एक बार फिर से साबित किया कि इस खेल में उम्र सिर्फ एक संख्या है। इस सत्र को अनुभवी उमेश यादव, ऋद्धिमान साहा और दिनेश कार्तिक के दमदार प्रदर्शन के लिए याद किया जाएगा। कार्तिक ने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलुरु के लिए फिनिशर की भूमिका में बेहतरीन प्रदर्शन के बाद भारतीय टीम में एक और वापसी की।

उमेश ने टूर्नामेंट के शुरुआती चरण में केकेआर के लिए पावरप्ले में शानदार गेंदबाजी की तो साहा ने चैम्पियन गुजरात टाइटंस के लिए बाद के मैचों में सलामी बल्लेबाज के तौर पर टीम को लगातार अच्छी शुरूआत दिलाई। आईपीएल के इस सत्र पर भी कोरोना वायरस का साया मंडराया था लेकिन बीसीसीआई ने चीजों को सही तरीके से नियंत्रित करके 74 मैचों के टूर्नामेंट को सफलतापूर्वक पूरा किया। दिल्ली कैपिटल्स की टीम में कोविड-19 के कई मामले आए जिससे कुछ मैचों का कार्यक्रम बदलना पड़ा लेकिन इससे टूर्नामेंट पर कोई खतरा नहीं आया।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Raj chaurasiya

Related News

Recommended News