जडेजा को WTC फाइनल में इस कारण चुना गया था, लेकिन योजना उल्टी पड़ गई : मांजरेकर

6/25/2021 12:28:25 PM

स्पोर्ट्स डेस्क : विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल मैच में न्यूजीलैंड ने भारत को 8 विकेट से हारकर खिताब अपने नाम किया। इस दौरान भारतीय टीम ने बल्ले और गेंद दोनों से कुछ अच्छा प्रदर्शन नहीं किया, खास कर दूसरी इनिंग में। रविंद्र जडेजा ने कुल 31 रन बनाए और इसे लेकर पूर्व भारतीय क्रिकेटर और मौजूदा कमेंटेटर संजय मांजरेकर ने कहा है कि जडेजा को उनकी बल्लेबाजी के कारण प्लेइंग इलेवन में शामिल किया गया था लेकिन योजना उलटी पड़ गई। उन्होंने कहा, हनुमा विहारी जैसे विशेषज्ञ भारत के लिए कुछ और रन बनाने में मदद कर सकते थे। 

मांजरेकर ने कहा कि ऐतिहासिक मैच में 31 रन (पहली पारी में 15 और दूसरी में 16) रन बनाने वाले जडेजा को खराब अंग्रेजी परिस्थितियों में बाएं हाथ की स्पिन गेंदबाजी के लिए नहीं चुना गया था। मांजरेकर ने कहा कि अगर आपको यह देखना है कि खेल शुरू होने से पहले भारत कैसा चल रहा था तो दो स्पिनरों को चुनना हमेशा एक बहस का विषय था, खासकर जब हालात खराब थे और टॉस में एक दिन की देरी हुई थी। 

कमेंटेटर ने कहा कि उन्होंने अपनी बल्लेबाजी के लिए एक खिलाड़ी को चुना जो जडेजा थे लेकिन उनके बाएं हाथ की स्पिन के कारण उन्हें नहीं चुना गया था। उन्हें उनकी बल्लेबाजी के लिए चुना गया था और यह एक ऐसी चीज है जिसके मैं हमेशा खिलाफ हूं। उन्होंने कहा, आपको टीम में विशेषज्ञ खिलाड़ियों को चुनना होगा और अगर उन्हें लगता है कि पिच सूखी और टर्निंग थी तो वे अश्विन के साथ-साथ अपने बाएं हाथ के स्पिन के लिए जडेजा को चुनते, यह समझ में आता। लेकिन उन्होंने उसे उसकी बल्लेबाजी के लिए चुना और मुझे लगता है कि इसका उल्टा असर हुआ जैसा कि ज्यादातर होता है। 

पूर्व भारतीय क्रिकेटर ने कहा, उदाहरण के लिए अगर उनके (भारतीय टीम) पास हनुमा विहारी के रूप में एक विशेषज्ञ बल्लेबाज होता जिसके पास बहुत अच्छा बचाव होता तो यह आसान होता। शायद 170, 220, 225 या 230 हो सकता था, कौन जानता है? लेकिन मुझे उम्मीद है कि भारत वह नहीं करेगा जो इंग्लैंड ने ऐतिहासिक रूप से किया है। किसी ऐसे को चुनें जिसके पास ताकत है और वह ताकत सिर्फ अच्छे इस्तेमाल के लिए आ सकती है, लेकिन दबाव के इस खेल में ऐसा बहुत कम ही होता है। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Sanjeev

Recommended News

static