पूर्व तेज गेंदबाज मोहम्मद आमिर ने PCB को लताड़ा, कहा- ईशान-सूर्यकुमार के डेब्यू को देखिए

5/12/2021 12:40:03 PM

स्पोर्ट्स डेस्क : पूर्व क्रिकेटर मोहम्मद आमिर ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के चयन मॉड्यूल के ग्रे क्षेत्रों पर प्रकाश डाला है। बाएं हाथ के तेज गेंदबाज जिन्होंने दिसंबर 2020 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया है, उन्हें लगता है कि अकसर युवा क्रिकेटरों को राष्ट्रीय स्तर पर चुना जाता है, जिनके पास तकनीकी खामियां हैं और वे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेलने के लिए अच्छी तरह से तैयार नहीं हैं। 

अमीर ने भारत, इंग्लैंड और न्यूजीलैंड से पाकिस्तान के चयन मानदंडों की तुलना की। एक वेबसाइट से हाल ही में बातचीत के दौरान पूर्व क्रिकेटर ने कहा, अन्य टीमें उन खिलाड़ियों को चुनती हैं जिन्होंने घरेलू सर्किट में सबक सीखा है, लेकिन पाकिस्तान में क्रिकेटरों से उम्मीद की जाती है कि वे 'अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलते हुए' सीखें।' 

अमीर ने कहा, उन खिलाड़ियों को देखें जिन्हें भारत, इंग्लैंड और न्यूजीलैंड अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में ला रहा है। वे उच्चतम स्तर पर खेलने के लिए तैयार हैं क्योंकि उन्होंने मेहनत की है और घरेलू तथा जूनियर लेवल पर अपनी शिक्षा पूरी की है। एक बार चुने जाने के बाद वे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपना कौशल दिखाते हैं जो उन्होंने घरेलू क्रिकेट में पहले ही सीख लिया है। जबकि पाकिस्तान में, इस समय हमारे खिलाड़ियों से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने के दौरान राष्ट्रीय कोचों से सीखने की अपेक्षा की जाती है, न कि करियर के शुरूआती दिनों में क्रिकेट सीखने की। 

आमिर ने कई भारतीय युवाओं के उदाहरणों का हवाला दिया जिन्होंने हाल ही में घरेलू स्तर पर कड़ी मेहनत के बाद सीमित ओवरों की क्रिकेट में भारत के लिए पदार्पण किया था। आमिर ने कहा, ईशान किशन, सूर्यकुमार यादव और क्रुणाल पांड्या को देखें, जब उन्होंने अपना डेब्यू किया तो वह वे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के लिए तैयार और प्राइमेड लग रहे थे और उन्हें सलाह या कोचिंग की जरूरत नहीं दिखी। वह घरेलू क्रिकेट और आईपीएल में कई साल खेले हैं और इससे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में उनकी शुरूआत हुई है। 

इस 29 वर्षीय पूर्व तेज गेंदबाज ने कहा, अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्कूल क्रिकेट नहीं है जहां आप सीखते हैं। यह एक कठिन वातावरण है जहां केवल वे खिलाड़ी तैयार होते हैं और जिन्होंने खेल के बारे में सीखा है और आवश्यक कौशल प्राप्त किए हैं। यदि आप क्रिकेट के बारे में सीखना चाहते हैं, तो इसे अकादमी में या प्रथम श्रेणी क्रिकेट में खेलें। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में बिता तैयारी के ना आएं। अक्सर हमारे युवा खिलाड़ियों को उनके खेल में मुद्दों के साथ तकनीकी खामियों के साथ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में धकेल दिया जाता है, इस उम्मीद में कि वे सुधार करेंगे। खैर, यह उस तरह से काम नहीं करता है और जितनी जल्दी हम इसे महसूस करते हैं, उतना ही बेहतर होगा। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Sanjeev

Recommended News

static