हॉकी की 4 महिला खिलाड़ी जिनका संघर्ष सुन चौंक जाएंगे आप

8/2/2021 9:18:21 PM

स्पोर्ट्स डेस्क : भारतीय महिला हॉकी टीम ने क्वार्टर फाइनल मैच में मजबूत माने जाने वाली टीम ऑस्ट्रेलिया को 1-0 से हरा दिया है। इस मैच में भारत के लिए गुरजीत कौर ने एक मात्र गोल करके भारतीय टीम को जीत दिलाई। भारतीय महिला टीम ने पहली बार ओलंपिक के सेमीफाइनल में जगह बनाई है। 

रानी रामपाल

PunjabKesari
 
भारतीय हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल के पिता गाड़ी चलाते थे और उनके लिए हॉकी स्टिक नहीं खरीद सकते थे। उसने टूटी टहनियों के साथ अभ्यास किया

दीप ग्रेस इक्का

PunjabKesari

जब दीप ग्रेस इक्का ने पहली बार हॉकी स्टिक उठाई तो उनके परिवार की पड़ोसियों और ग्रामीणों द्वारा एक 'लड़की' को घर के काम सीखने के बजाय हॉकी खेलने की अनुमति देने के लिए कड़ी आलोचना की गई। लेकिन उनके परिवार ने समाज की इन बातों पर ध्यान नहीं दिया। 

वंदना कटारिया

PunjabKesari

ओलंपिक से तीन महीने पहले वंदना कटारिया के पिता का निधन हो गया। वह प्रशिक्षण के कारण घर नहीं जा सकी। अपनी कई कठिनाइयों के बावजूद, वह ओलंपिक में हैट्रिक बनाने वाली पहली भारतीय महिला बनीं।

सलीमा टेटे

PunjabKesari

झारखंड के सिमडेगा की रहने वाली हैं, जहां उनके माता-पिता, भाई-बहन और गांव वाले गांव में मोबाइल कनेक्टिविटी और टीवी सेट की कमी के कारण भी उन्हें मैच में खेलते हुए नहीं देख पाए।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Raj chaurasiya

Recommended News

static