ऐश्वर्य को ऐतिहासिक स्वर्ण , महिला 25 मीटर पिस्टल में भारत का ‘क्लीन स्वीप’

3/24/2021 7:55:29 PM

नई दिल्ली : ऐश्वर्य प्रताप सिंह तोमर ने आईएसएसएफ विश्व कप के पुरूषों की 50 मीटर राइफल थ्री स्पर्धा के फाइनल में ऐतिहासिक स्वर्ण के बाद भारत ने महिलाओं की 25 मीटर पिस्टल स्पर्धा के तीनों पदक जीत लिए जिसमें चिंकी यादव ने पहला स्थान हासिल किया। ऐश्वर्य 20 साल की उम्र में इस स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतने वाले युवा भारतीय निशानेबाज भी बन गए, उन्होंने डॉ. कर्णी सिंह शूटिंग रेंज पर 462.5 अंक से पहला स्थान हासिल किया और हंगरी के स्टार राइफल निशानेबाज इस्तवान पेनी (461.6) और डेनमार्क के स्टेफेन ओलसेन (450.9) से आगे रहे।

चिंकी ने अनुभवी राही सरनोबत के साथ कड़ी प्रतिद्वंद्वी मनु भाकर को पछाड़ते हुए स्वर्ण पदक अपने नाम किया जिससे भारत ने स्पर्धा तीनों पदक जीत लिए। इस प्रदर्शन से भारत की निशानेबाजी में प्रतिभा की गहराई का भी अंदाजा लग जाता है जिससे भारत के स्वर्ण पदकों की संख्या नौ हो गई।

देश के कुल 19 पदक (पांच रजत और इतने ही कांस्य) हो गये हैं। तेईस साल की चिंकी ने समान 32 अंक के कारण हुए शूट-ऑफ में सरनोबत को 4-3 से पछाड़ दिया उन्नीस साल की मनु ने एलिमिनेशन चरण में 28 अंक से कांस्य पदक से संतोष किया जिसके बाद चिंकी और सरनोबत के बीच शीर्ष स्थान के लिये मुकाबला हुआ। ये तीनों निशानेबाज तोक्यो ओलंपिक के लिये पहले ही कोटा हासिल कर चुकी हैं।

चिंकी ने 2019 में दोहा में हुई 14वीं एशियाई चैम्पियनशिप में दूसरे स्थान पर रहकर ओलंपिक कोटा जीता था। पहले 20 निशानों में वह 14 के स्कोर से आगे चल रही थी। उनके बाद मनु 13 अंक से दूसरे स्थान पर थीं। फिर भोपाल की निशानेबाज चिंकी ने 21 के स्कोर से बाकियों पर बढ़त बना ली जिसके बाद शुरू में जूझने वाली अनुभवी सरनोबत ने भी वापसी की। फाइनल्स में चिंकी ने दो सही निशानों से शुरूआत की लेकिन फिर दो बार (एलिमिनेशन चरण की दूसरी और छठी सीरीज) पाचों के पांचों निशाने सही लगाए।

चिंकी ने कहा- मैंने फाइनल में टाई होने के लिये भी पहले ही ट्रेनिंग की हुई थी, मुझे सिर्फ अपना सर्वश्रेष्ठ करना था। मुझे इस बारे में नहीं सोचना था कि प्रतिस्पर्धा में कौन मेरे साथ है और उनका स्तर कैसा है। इन तीनों में सबसे अनुभवी सरनोबत ने पहले चरण की तीसरी सीरीज में सभी पाचों निशानों पर अंक जुटाये जिसके बाद एलिमिनेशन में चौथी, सातवीं और नौंवी सीरीज में चार चार निशाने लगाए। तीसरी रैंकिंग की मनु चौथी सीरीज में ही पांचों के पांचों निशाने सही लगा पायी। इससे पहले सुबह ऐश्वर्य ने भारत के लिये दिन की शुरूआत सोने के तमगे से की।

उन्होंने सीनियर विश्व कप में अपना पहला स्वर्ण जीतने के बाद कहा- तोक्यो ओलंपिक से पहले इस पदक से मेरे आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होगी। फाइनल में भारत के अनुभवी संजीव राजपूत और नीरज कुमार ने भी क्वालीफाई किया था लेकिन वे क्रमश: छठे और आठवें स्थान पर रहे। ऐश्वर्य ने शानदार शुरूआत करते हुए कुछ समय तक बढ़त भी बनाये रखी लेकिन उन्होंने स्टैंडिंग एलिमिनेशन चरण में 10.4, 10.5 और 10.3 अंक जुटाकर वापसी की।

ऐश्वर्य तोक्यो ओलंपिक के लिये कोटा हासिल कर चुके हैं। उन्होंने 2019 एशियाई निशानेबाजी चैम्पियनशिप की 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशन स्पर्धा में कांस्य पदक जीतकर भारत के लिये ओलंपिक कोटा हासिल किया था। उन्होंने तीन दिन पहले दीपक कुमार और पंकज कुमार के साथ मिलकर पुरूष टीम एयर राइफल स्पर्धा में रजत पदक भी जीता था। राजपूत क्वालीफिकेशन में 1172 अंक से शीर्ष पर थे जबकि ऐश्वर्य और नीरज कुमार ने 1165 का समान स्कोर जुटाया।

ऐश्वर्य नीलिंग पोजिशन में 155.0 अंक से आठ पुरूषों के फाइनल में सबसे आगे थे जबकि प्रोन में 310.5 अंक से ओलसेन (311.4) के पीछे और पेनी (309.5) से आगे दूसरे स्थान पर रहे। महिलाओं की 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशन स्पर्धा में तेजस्विनी सावंत (12वें स्थान) सर्वश्रेष्ठ स्थान हासिल करने वाली भारतीय रहीं। अंजुम मोदगिल (16वें) और सुनिधि चौहान (17वें) उनके पीछे रहीं। 


Content Writer

Jasmeet

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static