चीन से तनाव के चलते BCCI का बड़ा फैसला, IPL गवर्निंग काउंसिल स्पॉन्सरशिप डील की करेगी रिव्यू

6/20/2020 3:49:43 PM

नई दिल्ली: भारत और चीन के बीच सीमा पर चल रहे गतिरोध के मद्देनजर इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) ने टूर्नामेंट के ‘विभिन्न प्रायोजन सौदों की समीक्षा करने' के लिए अगले सप्ताह अपनी संचालन परिषद की बैठक बुलाई है। आईपीएल के प्रमुख प्रायोजकों में चीनी स्वामित्व वाली कंपनी वीवो टाइटल प्रायोजक है। आईपीएल ने वीवो के मद्देनजर यह कदम उठाया है।

Taking note of the border skirmish that resulted in the martyrdom of our brave jawans, the IPL Governing Council has convened a meeting next week to review IPL’s various sponsorship deals 🇮🇳

— IndianPremierLeague (@IPL) June 19, 2020

दरअसल, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने शुक्रवार देर रात एक ट्वीट करते हुए आईपीएल प्रायोजन सौदों की समीक्षा की बात स्वीकारी, लेकिन उसने किसी नाम का जिक्र नहीं किया। गौरतलब है कि गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गये थे जिसके बाद देश भर में चीनी कंपनियों और उसके उत्पादों के बहिष्कार का सिलसिला जोर पकड़ चुका है। 

PunjabKesari
चीनी मोबाइल हैंडसेट निर्माता कंपनी वीवो ने पहली बार वर्ष 2015 में दो वर्षों के लिए आईपीएल का टाइटल प्रायोजन हासिल किया था। फिर वीवो ने वर्ष 2017 में पांच साल की अवधि के लिए आईपीएल के टाइटल प्रायोजन के अधिकार हासिल किए थे। कंपनी ने इस सौदे का करार 341 करोड़ डॉलर में किया था। इसके तुरंत बाद आईपीएल ने मोबाइल वॉलेट कंपनी पेटीएम को वर्ष 2018-22 के लिए आधिकारिक ऑन-ग्राउंड प्रायोजक के रूप में चुना था। 

 


neel

Related News